वक़्त की क़ैद में; ज़िन्दगी है मगर... चन्द घड़ियाँ यही हैं जो आज़ाद हैं....

Tuesday, December 1, 2009

वो ग़ज़ल कहां की ग़ज़ल हुय़ी....

ग़र खून से लथपथ लफ्ज़ शान से चले नहीं
ग़र सुख़न के तलवे अंगारों पर जले नहीं
ग़र कंठ शेर का नीला हो ना विष पी के
ग़र हर्फ़ की पीड़ा सुनके मुर्दा ना चीखे
ग़र मतला दर्द में पागल होके ना झूमे
ग़र मक़ता घाव की पपड़ी को जा ना चूमे
ग़र शिकन से ज़ख़्मी ना रदीफ़ का भाल हुआ
ग़र रंग काफ़िये का ना थोड़ा लाल हुआ
ग़र बहर की साँसों में दौड़े ललकार नहीं
ग़र ग़ज़ल के सीने में नंगी तलवार नहीं....

तो ग़ज़ल कहां की ग़ज़ल हुयी
वो ग़ज़ल कहां की ग़ज़ल हुयी.....

11 comments:

  1. भैया !
    जब सारे औजारों की चर्चा किये तो
    रदीफ़ और काफिया को काहे छोड़ दिया ............
    .................. आपने जो कहा वह बहुत अच्छी बात लगी .........................

    ReplyDelete
  2. Amrendra -- Shukriya

    'Bahar' ka Taqaaza tha 'Kaafiya' ki Charcha Naa Kii Jaaye, Aur 'Kaafiya' ko Tanha nahiin chhodna chaahte the, Isiliye 'Radeef' ka Istemaal Nahiin Kiya....

    Ummeed hai Baat Aap tak Pahunch Gayi Hogi...

    ReplyDelete
  3. भई ग़ज़ल तो तब भी नही हुई जब आपने रदीफ़ और काफ़िया को तलाक दे ही दिया ;-)
    खैर एक से एक खूबसूरत और करीने से लगाये हुए शब्दों की फ़स्ल पे भावों के महकते फ़ूल उगा लेना तो आपकी फ़ितरत ही है...सो नया कुछ नही कहूँगा.
    ..खासकर ’गर’, ’तो’, ’वो’ और ग़ज़ल की टेक्निकल शब्दावली को जिस खूबसूरती से पिरोया है आपने इस खुशबूदार नज़्म मे..वो बेमिसाल है..
    हाँ आखिरी से तीसरी लाइन मे शायद आप ’सीने मे‘ के बजाय ’सीने पे’ लिखना चाहते होंगे..ऐसा लगा..

    ReplyDelete
  4. Amrendra / Apoorv --- Thanks for the feedback... I have incorporated two new lines into the same...

    ग़र शिकन से ज़ख़्मी ना रदीफ़ का भाल हुआ ....
    ग़र रंग काफ़िये का ना थोड़ा लाल हुआ .....

    ReplyDelete
  5. ग़र बहर की साँसों में दौड़े ललकार नहीं
    ग़र ग़ज़ल के सीने में नंगी तलवार नहीं....

    बेहतरीन!!

    ReplyDelete
  6. इस तरह की गजल का आपने बढिया खाका खींचा है ।
    गजल वही है जिसे सुनकर अपने आप वाह आह निकलने लगे ।

    ReplyDelete
  7. ओह क्या कहूँ…………गजब………॥

    ReplyDelete
  8. भैया अब बहर का क्या हुवा ........ काफिया रदीफ़ ना मिले तो क्या हुवा ..... दिल के भाव अच्छे होने चाहिएं .......... सब कुछ सेट हो जाता है समय के साथ ...........

    ReplyDelete