वक़्त की क़ैद में; ज़िन्दगी है मगर... चन्द घड़ियाँ यही हैं जो आज़ाद हैं....

Sunday, December 21, 2008

पर छोटा कोई कोना है क्या....

बाज़ी बाकी, रोना है क्या ?
तेरे पास खिलौना है क्या?

उसका चेहरा हीरा मोती
क्या चांदी और सोना है क्या?

कत्थई आँखें , बादल ज़ुल्फ़ें
नज़रें जादू टोना है क्या?

हम तो अंधे खुली आँख के
आगे जाने होना है क्या ?

प्यार नहीं है बिज़नेस प्यारे
इसमें पाना खोना है क्या ?

उसके दिल का कमरा 'बुक' है
पर छोटा कोई 'कोना' है क्या ?

12 comments:

  1. बहुत बढ़िया, बधाई

    ReplyDelete
  2. उसके दिल का कमरा 'बुक' है
    पर छोटा कोई 'कोना' है क्या ?

    बहुत खूब, कम शब्दों में बेहतरीन प्रस्तुति.....
    सचमुच दिल को छूने के काबिल |||
    साधुवाद और स्वागत...

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना के लिए बधाई स्वीकार करें
    खूब लिखें,अच्छा लिखें

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  5. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    ब्लॉग्स पण्डित - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  6. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ 'ब्लॉग्स पण्डित' पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  7. आपका स्वागत, लिखते रहें

    ReplyDelete
  8. हम तो अंधे खुली आँख के
    आगे जाने होना है क्या ?
    .. आपका हार्दिक स्वागत है मेरे ब्लॉग पर भी तशरीफ़ लायें
    लाज़बाब बेहतरीन अद्भुत सुब्दर वाह बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  9. प्यार नहीं है बिज़नेस प्यारे
    इसमें पाना खोना है क्या ?
    Khub likha hai aapne, Swagat blog parivar aur mere blog par bhi.

    ReplyDelete
  10. महज़ अलफाज़ से खिलवाड़ नहीं है कविता
    कोई पेशा ,कोई व्यवसाय नही है कविता ।
    कविता शौक से भी लिखने का काम नहीं
    इतनी सस्ती भी नहीं , इतनी बेदाम नहीं ।
    कविता इंसान के ह्रदय का उच्छ्वास है,
    मन की भीनी उमंग , मानवीय अहसास है ।
    महज़ अल्फाज़ से खिलवाड़ नही हैं कविता
    कोई पेशा , कोई व्यवसाय नहीं है कविता ॥

    कभी भी कविता विषय की मोहताज़ नहीं
    नयन नीर है कविता, राग -साज़ भी नहीं ।
    कभी कविता किसी अल्हड yauvan का नाज़ है
    कभी दुःख से भरी ह्रदय की आवाज है
    कभी धड़कन तो कभी लहू की रवानी है
    कभी रोटी की , कभी भूख की कहानी है ।
    महज़ अल्फाज़ से खिलवाड़ नहीं है कविता,
    कोई पेशा , कोई व्यवसाय नहीं है कविता ॥

    मुफलिस ज़िस्म का उघडा बदन है कभी
    बेकफन लाश पर चदता हुआ कफ़न है कभी ।
    बेबस इंसान का भीगा हुआ नयन है कभी,
    सर्दीली रात में ठिठुरता हुआ तन है कभी ।
    कविता बहती हुई आंखों में चिपका पीप है ,
    कविता दूर नहीं कहीं, इंसान के समीप हैं ।
    महज़ अल्फाज़ से खिलवाड़ नहीं है कविता,
    कोई पेशा, कोई व्यवसाय नहीं है कविता ॥

    KAVI DEEPAK SHARMA
    http://www.kavideepaksharma.co.in
    http://Shayardeepaksharma.blogspot.com
    Posted by Kavyadhara Team
    All right reserved@Kavi Deepak Sharma

    ReplyDelete
  11. हिन्दी चिठ्ठाविश्व में आपका हार्दिक स्वागत है, मेरी शुभकामनायें आपके साथ हैं… एक अर्ज है कि कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें, ताकि टिप्पणी देने में कोई बाधा न हो.… धन्यवाद।

    ReplyDelete