वक़्त की क़ैद में; ज़िन्दगी है मगर... चन्द घड़ियाँ यही हैं जो आज़ाद हैं....

Monday, October 5, 2009

शराब में बुराई क्या है...

बेवफ़ा कौन है यहाँ; बा-वफ़ाई क्या है ?
बहुत मुश्किल है समझना; 'सच्चाई' क्या है ?

जब दर्द ही सुकून दे और सुकूँ मीठा दर्द दे
चारागर ! भला इस मर्ज़ की दवाई क्या है ?

सवाल ये नहीं कि मोहब्बत की पगार कितनी है
सवाल ये है कि 'उपरी कमाई' क्या है ?

इंतज़ार, इज़हार, इबादत; सब तो किया है मैंने
और कैसे जताऊं; इश्क की गहराई क्या है ?

वो गंगाजल से पाक़ है जो पी के 'काफ़िर' सच कहे
होश में बताओ; शराब में बुराई क्या है ?

आंखों की गोद से निकले तो ता-उम्र यतीम रहे
उन आंसुओं से सुनिए; 'माँ से जुदाई' क्या है ?

11 comments:

  1. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना .

    ReplyDelete
  2. क्या बात है विशाल साहब..देर आये मगर दुरुस्त आये..बेहतरीन अशआर
    सवाल ये नहीं कि मोहब्बत की पगार कितनी है
    सवाल ये है कि 'उपरी कमाई' क्या है ?
    बड़ी नज़ाकत भरी बात कही आपने..एक समंदर से गहराई और एक दरिया सी रवानी होती है आपकी नज्मों मे..कहाँ तक कोई तारीफ़ करे..एक-एक शेर साँचे से ढला हुआ..
    आंखों की गोद से निकले तो ता-उम्र यतीम रहे
    उन आंसुओं से सुनिए; 'माँ से जुदाई' क्या है ?
    बस दिल ले लिया..

    ReplyDelete
  3. wah, आंखों की गोद से निकले तो ता-उम्र यतीम रहे
    उन आंसुओं से सुनिए; 'माँ से जुदाई' क्या है ?


    behatareen rachna, sabhi sher lajawaab, badhaai.

    ReplyDelete
  4. जबरदस्त ...
    हर एक शेर दमदार ...

    ReplyDelete
  5. har nazm ke saath gahrayee mein utartey ja rahe ho kaafir...
    hum jaantey hain is dard ki wajah kya hai...

    Jazbaat saanson ko mazbooti dein to achcha hai...
    Aaine se nazrein churaney ki ye sazaa kya hai....

    ReplyDelete
  6. appke gajal ne do pal tharkar padhne ko majboor kar dia. bahut dino baad kisi ke gajal ne dil ko chhua hai.well wishes to u.Go ahead sky is the limit.....

    ReplyDelete
  7. Sir kitni 'उपरी कमाई' hai.
    pankaj

    ReplyDelete
  8. सवाल ये नहीं कि मोहब्बत की पगार कितनी है
    सवाल ये है कि 'उपरी कमाई' क्या है ?

    bhai kiya baat hai vishal ji kamai to mujhe bhi nahi pata unlimitedddddddddddddddddddd
    http://www.logicalsquare.com/images/logo_logical.jpg :::-> Website/Software Development Company

    ReplyDelete
  9. shukr hai, padh ke bahut acha laga, kafi gahri baatein kardi...
    इंतज़ार, इज़हार, इबादत; सब तो किया है मैंने
    और कैसे जताऊं; इश्क की गहराई क्या है ?
    and i really like this one:
    आंखों की गोद से निकले तो ता-उम्र यतीम रहे
    उन आंसुओं से सुनिए; 'माँ से जुदाई' क्या है ?
    maa to aisi hai ki din main pachas baar yaad aati hai

    ReplyDelete
  10. base hue chaman ujad gaye yaha pe
    aadiyo me aisa surur tha
    commonwealth ke karche parwan chad gaye
    commission khoro ka aisa huzum tha
    par ye paisa aaya oor gaya khaha hai
    ye jaanne ka sirf PRESS ko junoon tha.
    Sachin

    ReplyDelete