वक़्त की क़ैद में; ज़िन्दगी है मगर... चन्द घड़ियाँ यही हैं जो आज़ाद हैं....

Saturday, March 28, 2009

वो अब भी फूट पड़ता है, लिपट के माँ के सीने से...

गुज़स्ता पल किनारा छोड़ जाए है सफ़ीने से
मुझे अब डर सा लगता जा रहा टुकडों में जीने से


मेरे तकिये के नीचे देखना कुछ 'वक्त' रक्खा है
के हमने आज तक रक्खे हैं वो लम्हें करीने से


बड़ा गहरा नशा है याद में; हौले से चुस्की ले
खुमारी चढ़ के बोलेगी, ज़रा रुक रुक के पीने से


मरीज़ ए ग़म के नाखुन देखते ही चारागर बोले
भला क्या फायदा होगा तुम्हारे ज़ख्म सीने से?


तू उसको लाख 'काफ़िर' कह ले; मेरा एक ही सच है
वो अब भी फूट पड़ता है लिपट के माँ के सीने से..........

24 comments:

  1. मेरे तकिये के नीचे देखना कुछ 'वक्त' रक्खा है
    के हमने आज तक रक्खे हैं वो लम्हें करीने से

    तू उसको लाख 'काफ़िर' कह ले; मेरा एक ही सच है
    वो अब भी फूट पड़ता है लिपट के माँ के सीने

    विशाल भाई जबरदस्त क्या बात है, यूँ तो हर शेर लाजवाब लेकिन ऊपर चुने दो शेर तो गज़ब ढा रहे हैं\ मेरी बधाई।

    ReplyDelete
  2. सून्दर प्रयास। बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  3. तू उसको लाख 'काफ़िर' कह ले; मेरा एक ही सच है
    वो अब भी फूट पड़ता है लिपट के माँ के सीने से..........

    really nice

    ReplyDelete
  4. भाई ये दो लाइंस में तो आपने पूरा उपन्यास लिख दिया है

    ReplyDelete
  5. I had no idea you were such a poet! Beautiful. ~ Satarupa

    ReplyDelete
  6. Thanks a lot for your Comments.... Thanks indeed...

    ReplyDelete
  7. तू उसको लाख 'काफ़िर' कह ले; मेरा एक ही सच है
    वो अब भी फूट पड़ता है लिपट के माँ के सीने से..........
    विशाल जी
    इतनी खूबसूरत ग़ज़ल कह दी है अब क्या बताएं, हर शेर पर दाद निकलती है, वाह वाह कहने का मन करता है, यह शेर तो ख़ास है

    ReplyDelete
  8. Vishal, this is superb! Love it. Am going to follow your compositions more closely now :)

    ReplyDelete
  9. मान्यवर
    आपने बहुत ही अच्छी kahan की गजल कही है
    ख़ास कर मतला

    आपका वीनस केसरी

    ReplyDelete
  10. गुज़स्ता पल किनारा छोड़ जाए है सफ़ीने से
    मुझे अब डर सा लगता जा रहा टुकडों में जीने से

    waah...waah...!1

    मेरे तकिये के नीचे देखना कुछ 'वक्त' रक्खा है
    के हमने आज तक रक्खे हैं वो लम्हें करीने से
    bhot khoob...!!

    ReplyDelete
  11. Thanks for joining my blog "thatCoffee". My new blog's link is
    http://parastish.blogspot.com/

    I am not publishing the new link on my old blog so informing the followers personally.

    God bless
    RC

    ReplyDelete
  12. hi,

    shobhit ji ke blog se aaya....

    ...aake accha laga!
    Bahut accha likhte hain aap.
    Vakai!!

    khaskar....
    aaj raat ko pagal kar dein....

    ReplyDelete
  13. मेरे तकिये के नीचे देखना कुछ 'वक्त' रक्खा है
    के हमने आज तक रक्खे हैं वो लम्हें करीने से
    &
    तू उसको लाख 'काफ़िर' कह ले; मेरा एक ही सच है
    वो अब भी फूट पड़ता है लिपट के माँ के सीने से..........

    wah!!

    सच, मोहब्बत, ख़्वाब अक्सर जीत जाते हैं
    जिसमे ये बकवास ना हो; वो किताब चाहिए

    let me be ur follower !!

    ReplyDelete
  14. logon ne itna kuchh kah dala ki mere liye bacha hee naheen. achchha naheen, bahut achchha likh rahe hain.

    ReplyDelete
  15. विशाल गौरव साहब,

    हाथ चूमने का मन करता है आपका....
    बहुत खूब लिखा है आपने...
    एक-एक शेर जिंदगी की इस भागम-भाग में मौजू जान पड़ता है.
    और आपके ब्लॉग का टाइटल भी जबरदस्त है..."आज जाने की जिद न करो" ...ग़ज़ल के आगे के मिसरे खुद-बखुद जेहन में उभरने लगते हैं.
    भाई..बहुत खूब!

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  17. मरीज़ ए ग़म के नाखुन देखते ही चारागर बोले
    भला क्या फायदा होगा तुम्हारे ज़ख्म सीने से? * (Fair)

    ReplyDelete
  18. बड़ा गहरा नशा है याद में; हौले से चुस्की ले
    खुमारी चढ़ के बोलेगी, ज़रा रुक रुक के पीने से x

    ruk ruk ke chuski leke peene se nasha hota hi nahin hai.Gaurav ji koshish karein.

    ReplyDelete
  19. बड़ा गहरा नशा है याद में; हौले से चुस्की ले
    खुमारी चढ़ के बोलेगी, ज़रा रुक रुक के पीने से

    how true.

    ReplyDelete
  20. ख्वाबों की भीड़ गाती है खामोश तराने
    यहाँ जीस्त बोलती है गजल के बहाने

    माँ आ गई जहाँ वहां पाकीज़गी फैले
    संजीदगी से कहते हो फितरत के फसाने

    बहुत खूब लिख रहे हो गौरव ......

    ReplyDelete